Sunday, September 11, 2011

शिक्षक दिवस की संगोष्ठी में

गया था शिक्षक दिवस गोष्ठी में, सुनने शिक्षा की बात,
बातें तो सबने कही, करते रहे वे, व्यवस्था पर आघात.
लेकिन कैसे शिक्षा सुधरे? यह प्रश्न किसी ने नहीं उठाया
सबने गाई अपनी-अपनी, अपनी सुविधा ही प्रश्न उठाया.

मैं जो गया था मन में सोचकर, वैसा कुछ भी नहीं पाया,
करता क्या? रणछोड़ नहीं जो, बैठ वहीँ आराम फ़रमाया.
पड़ चुकी थी दृष्टि बहुतों की, पर नहीं किसी ने मुझे जगाया,
लेकिन कुछ ऐसे भी थे, जिनको पसंद नहीं यह आया.

हुआ इशारा माइक से, अरे ! कोई उनको तो जगाओ.
शिक्षक दिवस के पावन पर्व पर, उन्हें शिष्टाचार पढाओ.
विहँस पड़ा मै, बांते सुनकर, अब वक्ता बहुत झल्लाया,
जाने क्या फिर सूझा उसको, डायस मंच पर मुझे बुलाया.

कहने को क्या एक श्रोता के पास ? मेरा सिर चकराया,
शिक्षक दिवस था, इसलिए शिक्षा का ही प्रश्न उठाया.
जब हम शिशु थे, पढ़ते थे, 'अ' से अनार, 'आ' से आम.
होकर बड़े वही बच्चे, रोपते थे पौध - अनार और आम.

अब आप पढाते, 'अ' से अजगर, 'आ' से पढ़ाते आरी.
ये बच्चे पढकर बड़े हुए, अब खूब चलाते आरी.
जो पढ़े वही गुण अपनाते, डकार देश का धन, पेट फुलाते.
काट - काट कर बाग़ - वन, प्लाटिंग उसमे हैं करवाते.

सुविधा की माँग तुम बाद में करना, आदत पहले सुधारों,
समय से आओ, समय से जाओ, बच्चों में आदर्श जगाओ.
उन्हें अजगर मत बनाओ, हाथ में आरी मत पकडाओ.
उन्हें अजगर मत बनाओ, हाथ में आरी मत पकडाओ.

यदि 'क' से कमाल साम्प्रदायिकता के कारण नहीं पढ़ा सकते,
'क' से कबूतर तो पढ़ाओ, शान्ति - सौहार्द्र का बोध कराओ.
यदि 'क' से कंगारू पढाओगे, नैसर्गिक जेब वह लायेगा.
अब केवल पेट ही नहीं भरेगा, जेब भरेगा, भ्रष्टाचार फैलाएगा.
सींचने से पत्ता कोई लाभ नहीं, सींचना है तो जड़ से सींचो,
दोष - दर्शन से क्या होगा, देखना हो तो दर्पण देखो.

7 comments:

  1. आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा दिनांक 12-09-2011 को सोमवासरीय चर्चा मंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  3. बदल रही शिक्षा पद्धति पर बढ़िया कताक्ष किया है आपने।

    ReplyDelete
  4. sahitya samaj ka darpan hota hai...aapki yah rachna bhi atayant sarahniya hai..sadar pranam aaur apne blog per nimantran ke sath

    ReplyDelete
  5. पहले ग से गणेश था फिर ग से गधा हो गया... शिक्षा में सुधार की आवश्यकता पर बल देती सुंदर रचना!

    ReplyDelete
  6. Hi I really liked your blog.
    Hi, I liked the articles in your facebook Notes.
    I own a website. Which is a global platform for all the artists, whether they are poets, writers, or painters etc.
    We publish the best Content, under the writers name.
    I really liked the quality of your content. and we would love to publish your content as well. All of your content would be published under your name, so that you can get all the credit for the content. This is totally free of cost, and all the copy rights will remain with you. For better understanding,
    You can Check the Hindi Corner, literature and editorial section of our website and the content shared by different writers and poets. Kindly Reply if you are intersted in it.

    http://www.catchmypost.com

    and kindly reply on mypost@catchmypost.com

    ReplyDelete
  7. सभी संवेदी, सुधी पाठकों और समीक्षकों को नमस्कार और उनकी बहुमूल्य टिप्पणी के लिए आभार.

    ReplyDelete