Thursday, July 28, 2011

दूर तक जाना है हमको

आशा है अलख जगा रही
अब आगे बढ़ते जाना है.
किया है जो मन में संकल्प
अब लक्ष्य उसे ही पाना है.
तिमिर की औकात कितनी?
परिव्याप्त हो चाहे ये जितनी.
वह जानती इस बात को भी
यहाँ अब है नहीं मेरा गुजारा.

यहाँ उषा की लालिमा
नभ के पटल जब छाएगी,
हो तिमिर या तम घनेरा
नजर क्या फिर आएगी?
यह जीवन महासंग्राम है
इसमें कहाँ विश्राम है?
फिर श्रृंग हो, या गर्त हो;
नाप लेंगे हम ये दूरी,
गगन का अवकाश हो,
अन्दर मही की पर्त हो.

रोक क्या पायेंगे हमको,
छल - कपट की ये बाधाएं.
दूर तक जाना है हमको
पार करके ये अवरोध सारे.
तिमिर की औकात कितनी?
परिव्याप्त हो चाहे ये जितनी.
दूर तक जाना है हमको
पार करके ये अवरोध सारे.

17 comments:

  1. 'रोक क्या पायेंगे हमको,
    छल - कपट की ये बाधाएं.
    दूर तक जाना है हमको
    पार करके ये अवरोध सारे.
    तिमिर की औकात कितनी?
    परिव्याप्त हो चाहे ये जितनी.
    दूर तक जाना है हमको
    पार करके ये अवरोध सारे'

    प्रेरक प्रस्तुति बहुत-बहुत आभार

    ReplyDelete
  2. सर! धन्यवाद. प्रतिक्रया का स्वागत. अभिवादन पधारने का. समालोचना का.

    ReplyDelete
  3. आशा है अलख जगा रही
    अब आगे बढ़ते जाना है.
    किया है जो मन में संकल्प
    अब लक्ष्य उसे ही पाना है.
    ...bahut hi prerak sundar kavita...aabhaar.

    ReplyDelete
  4. हार्दिक स्वागत. रचना पसंद आई इसके लिए आभार आप का.

    ReplyDelete
  5. यह जीवन महासंग्राम है
    इसमें कहाँ विश्राम है?
    फिर श्रृंग हो, या गर्त हो;
    नाप लेंगे हम ये दूरी

    बहुत सुन्दर रचना , सुन्दर शब्द संयोजन

    ReplyDelete
  6. श्री एस एन शुक्ल जी,
    अनामिका जी,
    धन्यवाद जी, आपके पधारने और समालोचक टिप्पणी के लिए. रचना पसंद आई, जानकर अच्छा लगा,उत्साह वर्द्धन हेतु आभार.

    ReplyDelete
  7. तिमिर की औकात कितनी?
    परिव्याप्त हो चाहे ये जितनी.
    वह जानती इस बात को भी
    यहाँ अब है नहीं मेरा गुजारा.
    आशा और विश्वास का संदेश देती सुंदर रचना !

    ReplyDelete
  8. मेरेसहज, सरल शब्दों के प्रयोग से सुंदर भावाभिव्यक्ति। बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई!

    ReplyDelete
  9. ब्लॉग पर भी आपका स्वागत है-

    ReplyDelete
  10. तिमिर की औकात कितनी?
    परिव्याप्त हो चाहे ये जितनी.
    दूर तक जाना है हमको
    पार करके ये अवरोध सारे'--
    गंभीर विचारनीय सृजन को सम्मान ,शुभकामनायें डॉ साहब ...../

    ReplyDelete
  11. रोक क्या पायेंगे हमको,
    छल - कपट की ये बाधाएं.
    दूर तक जाना है हमको
    पार करके ये अवरोध सारे.
    तिमिर की औकात कितनी?
    परिव्याप्त हो चाहे ये जितनी.
    दूर तक जाना है हमको
    पार करके ये अवरोध सारे.
    ...jindagi ke dushwariyon se baahar nikalne ka hausla buland karti prerak prastuti ke liye aabhar!

    ReplyDelete
  12. आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 01-08-2011 को चर्चामंच http://charchamanch.blogspot.com/ पर सोमवासरीय चर्चा में भी होगी। सूचनार्थ

    ReplyDelete
  13. Thanks to all for their kind visit and creative comments. Thanks once again.

    ReplyDelete
  14. very nice ....
    charcha manch se yaha tak aa gai...
    padhkar bahut accha laga...

    ReplyDelete