Saturday, July 23, 2011

हे ब्लोगर! तुम क्यों सुस्त पड़े एक शंख, जोर से फूंको न.

हे ब्लोगर! तुम क्यों सुस्त पड़े?
तुम ब्लोगर हो, एक सर्जक हो.
तुम इस देश के पीड़ा भंजक हो.
यह माना! तुमको अधिकार नहीं,
पर,
दायित्व को क्यों तुम भूलते हो?
अपनी शक्ति को क्यों तुम भूलते हो?
क्या इस देश से तुमको प्यार नहीं?

हे ब्लोगर! तुम क्यों सुस्त पड़े?
तुम्ही चिकित्सक, तुम सर्जन हो,
शिक्षक हो तुम, तुम हो सन्यासी.
तुम नदी - सरोवर तट के वासी.
रहते जो दूर गाँव में, तुम हो.
जो रहते शीत गृहों में, तुम हो.
विज्ञान रूप तू प्रयोगशाला में,
तुम यति रूप हो, यज्ञशाला में.
क्षमता को अपनी तुम पहचानो,
नया दायित्व अपना तुम जानो.

हे ब्लोगर! तुम क्यों सुस्त पड़े?
तुम को ही, अलख जगाना है,
भारत एक नया बनाना है.
ऐसा भारत, जो भ्रष्ट न हो,
ऐसा भारत, जो त्रस्त न हो.
जो मजबूर न हो, किसी कोने से,
जो भरपूर हो,, चांदी - सोने से.

हे ब्लोगर! तुम क्यों सुस्त पड़े?
एक शंख, जोर से फूंको न.
छेड़ो तान, जगें सब विस्तर से,
अब रहे न कोई, निद्रा में.
अब रहे न कोई, तन्द्रा में.
देशभक्ति का पाठ, पढ़े वे फिर से,
जो गए भटक, किसी कारण से.

हे ब्लोगर! तुम क्यों सुस्त पड़े?
छेड़ो ऐसा तुम, दीपक राग,
घर - घर में जलती रहे चिराग.
चाहे हो निर्धन या दुखियारा,
हो दोनों समय चूल्हे में आग.
अपनी रोटी मिल - बाँट के खाएं,
मिल- बैठ के बिगड़ी बात बनायें.

हे ब्लोगर ! तेरे हाथ मशाल,
ऐसा प्रस्ताव कोई लाओ न,
जनता को तुम समझाओ न.
क्यों लूट रहे हो अपना देश?
क्यों फूंक रहे हो, घर - दरवेश?
लूटकर अपनों को, क्या पाओगे?
आएगी समझ, बहुत पछताओगे.

हे ब्लोगर ! छेड़ो ऐसी झंकृत तान,
गर्जन हो जिसमे, हो स्वाभिमान..
हो देश का जिससे, दुनिया में नाम.
हम रहें सतर्क, करें खुद निगरानी,
हों विफल शत्रु, उनके अरमान.
एक खौफ सा, उनमे छा जाए.
फिर दुबारा, आने का लेवें न नाम.,
हे ब्लोगर ! छेड़ो ऐसी झंकृत तान,
एक शंख, जोर से फूंको न.
गर्जन हो जिसमे, हो स्वाभिमान..

15 comments:

  1. एक शंख, जोर से फूंको न.
    गर्जन हो जिसमे, हो स्वाभिमान..
    डॉ तिवारी जी , भरोषा कायम करती ,मुखर रचना बहुत सुनार है ./ साधुवाद जी /

    ReplyDelete
  2. ब्लॉगरों को प्रेरित करती ओज भरी रचना।

    ReplyDelete
  3. वाह! तिवारी जी
    आपने शंखनाद फूँक दिया है.
    मुर्दे भी जी उठेंगें इस शंखनाद से.
    कमाल की अभिव्यक्ति है आपकी.
    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

    मेरे ब्लॉग पर भी आकर अपना बिगुल फूँक जाएँ,तो कृपा होगी.

    ReplyDelete
  4. ब्लागिन्ग से कुछ मोह भंग सा हो गया है आपकी इस रचना शंखनाद का कुछ असर हुया तो दो चार टिपाणियाँ दिये देते हैं। अच्छी रचना बधाई।

    ReplyDelete
  5. ब्लोगरो को उत्साहित करती शानदार रचना।

    ReplyDelete
  6. ब्लॉग जगत की सीमा विस्तृत नहीं है ! इसकी पहुँच थोड़े लोगो तक है और वाही लोग ( कुछ ) व्यभिचार से लिप्त है ! योगी के वेश में भोगी जैसी कहावत हो जाती है !बहुत ही सुन्दर ललकारती कवीता !

    ReplyDelete
  7. जोश और उत्साह से भरी रचना के लिये बधाई!

    ReplyDelete
  8. आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 26-07-2011 को चर्चामंच http://charchamanch.blogspot.com/ पर मंगलवारीय चर्चा में भी होगी। सूचनार्थ

    ReplyDelete
  9. शानदार प्रस्तुति, बधाई ||

    ReplyDelete
  10. ब्लोगरों को प्रेरित और उत्साहित करती हुई ओज से भरी हुई शंखनाद ........आभार

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर रचना, बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर रचना शेयर करने के लिये बहुत बहुत आभार

    ReplyDelete
  13. आपका तहेदिल से शुक्रिया मेरे ब्लॉग पे आने के लिए और शुभकामनाएं देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद/शुक्रिया..

    ReplyDelete
  14. 9 दिन तक ब्लोगिंग से दूर रहा इस लिए आपके ब्लॉग पर नहीं आया उसके लिए क्षमा चाहता हूँ ...आपका सवाई सिंह राजपुरोहित

    ReplyDelete
  15. सभी चिंतकों, समीक्षकों और आलोचकों का हार्दिक स्वागत. रचना पसंद आई इसके लिए आभार आप सभी का.

    ReplyDelete