Thursday, June 2, 2011

भ्रष्टाचार: महिमा पोटली की

बधी रहती थी घिग्घी सदा जिनकी हमसे
खड़े हो गए देखो आज वे कैसे तन के ?

रहते थे  घुसकर  बिलों  में  कभी  जो.
अब  करते हैं बाते  वे  देखो  अकड़  के.


खुला  राज  जब  भौचक्के  हुए  हम.
यह उनका नहीं ये दम  हैं  पोटली के.

ये दौलत की पोटली जो करा दे वो कम है.
सही फाइलों को भी झटक देते हैं झट से.

अब आदत इतनी बिगड़ गयी है उनकी.
फेंक देते हैं वे पोटली जो हल्की पलट के.



8 comments:

  1. ये दौलत की पोटली जो करा दे वो कम है.
    सही फाइलों को भी झटक देते हैं झट से.
    bahut dukhad satya hai

    ReplyDelete
  2. yathart ko batalaati hui saarthak rachann.badhaai sweekaren.



    please visit my blog and feel free to comment.thanks.

    ReplyDelete
  3. ये पोटली जो न करा दे वह कम है। सारी माया की जड़ और भष्टाचार की वजह है। सही है कि आज सबको वजनदार पोटली चाहिए।
    राजभाषा हिन्दी

    ReplyDelete
  4. ये दौलत की पोटली जो करा दे वो कम है.
    सही फाइलों को भी झटक देते हैं झट से....

    दौलत बटोरने के लिए हाथ भी तो खाली चाहिएं ... इसके लिए तो गर्दन भी मरोड़ देंगे हाथ ...

    ReplyDelete
  5. अब इसका अंत होने ही वाला है,जनता जाग रही है यथार्थवादी लेखन !

    ReplyDelete
  6. लक्ष्मी जी की महिमा अपरमपार है !

    ReplyDelete
  7. सभी सम्मानित समीक्षकों का स्वागत और प्रतिक्रियाओं का समादर.

    ReplyDelete