Friday, November 28, 2014

सम्बन्ध कवि-कविता का

 
कविता  कवि  की  आत्मजा  है
उसे  रचता  पोषित  करता है 
कविता  कवि  की  जननी  है
कवि का व्यक्तित्व निखरती है 
दोनों  पूरक  हैं  एक  दूजे  का
एक  दूजे  को खूब  सवारते  हैं 
एक  दूजे  से  हैं अस्तित्वमान
एक दूजे से ही है उनकी पहचान 
विचित्र सम्बन्ध कविता कवि में
अद्भुत सा दोनों का यह रिश्ता है
दीखता नहीं लौकिक जगत में
ऐसा अलौकिक सा यह रिश्ता है 

डॉ जयप्रकाश तिवारी 

4 comments:

  1. आपकी लिखी रचना शनिवार 29 नवम्बर 2014 को लिंक की जाएगी........... http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. मुझे आपका blog बहुत अच्छा लगा। मैं एक Social Worker हूं और Jkhealthworld.com के माध्यम से लोगों को स्वास्थ्य के बारे में जानकारियां देता हूं। मुझे लगता है कि आपको इस website को देखना चाहिए। यदि आपको यह website पसंद आये तो अपने blog पर इसे Link करें। क्योंकि यह जनकल्याण के लिए हैं।
    Health World in Hindi

    ReplyDelete