Friday, March 16, 2012

बसंत क्यों हुआ 'अ-संत'



थी प्रतीक्षा जिस बसंत की
वह बसंत खुश होकर आया.
सौगातों की गठरी को भी
साथ में अपने लेकर आया.
फूली सरसों-अलसी-अरहरी
मटर में छेमी खूब लहराया.

परन्तु,..........
बाँट सका न हाथ की झोली.
छिनी किसी ने हाथ की झोली.
अरे! ...अरे! ....यह कौन..?
जिसने दिन में डाका डाला.
चूसा जिसने माँ का सब खून.
अरे! यह तो धरा का प्यारा बेटा.
अरे! कितना यह है खोता बेटा?
पूत लाडला यह तो प्रकृति का.
कारण यही, प्रकृति में विकृति का.

यह देख बसंत को गुस्सा आया
मन ही मन जल - भून उठा वह.
उन पर, जो लोभी था मानव.
देने का दंड किया निश्चय उसने,
छोड़ा निःश्वांस एक जोर से उसने.
सूख गयी सरसों की सब वे
पुष्प दल-पुँज, जो पीले - पीले.
सूख गयी गेहूं की बाली,सूखी 
असमय, अलसी-मटर-अरहरी.

उधर आम की मंजरियों पर
कीट- पतंग कुछ ऐसे छा गए,
महुआ की उस बाग़ में जैसे
बिन पिए सभी मस्ती में आ गये.
चूने लगे टिकोरे सब असमय
सुबह - दोपहरी या हो शाम.
बाग़ का रखवाला घबराया,
छिना उसका सब चैन, आराम.
अपने छाती को दोनों हाथ दबाया,
मुख से निकला, हाय... राम!!..

आया जो इसबार बसंत,
यह नहीं, 'बसंत'.
बसंत वेश कोई असंत है आया.
बोला बसंत -
मैं ही बसंत, मैं हूँ बसंत,
लेकिन तुम मानवों ने मुझको
बना दिया, सचमुच - 'अ-संत'.




9 comments:

  1. sahaj....samayik kavita....achchi lagi.

    ReplyDelete
  2. बोला बसंत -
    मैं ही बसंत, मैं हूँ बसंत,
    लेकिन तुम मानवों ने मुझको
    बना दिया, सचमुच - 'अ-संत'.
    बहुत सुंदर भाव की प्रस्तुति,अच्छी रचना.....

    MY RESENT POST...काव्यान्जलि ...: तब मधुशाला हम जाते है,...

    ReplyDelete
  3. बेहद गहन भावाव्यक्ति।

    ReplyDelete
  4. मानव ने प्रकृति के साथ जो खिलवाड़ किया है उसकी सजा भी उसे ही भुगतनी पड़ेगी...सार्थक प्रस्तुति!

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  6. अपने स्वार्थ के लिए मानव प्रकृति को नष्ट करने पर तुला हुआ है ... सुंदर रचना ...

    ReplyDelete
  7. प्राकृति की चेतावनी को इंसान अनदेखा करेगा तो क्या पता क्या और होने वाला है ..

    ReplyDelete
  8. आया जो इसबार बसंत,
    यह नहीं, 'बसंत'.
    बसंत वेश कोई असंत है आया.
    बोला बसंत -
    मैं ही बसंत, मैं हूँ बसंत,
    लेकिन तुम मानवों ने मुझको
    बना दिया, सचमुच - 'अ-संत'.

    ....बहुत गहन और सटीक अभिव्यक्ति..आभार
    http://aadhyatmikyatra.blogspot.in/2012/03/blog-post_26.html

    ReplyDelete
  9. Thanks to all visitors for their kind visit and valuable comments.

    ReplyDelete