Friday, October 14, 2011

पहुचे बुद्ध यशोधरा द्वार




स्वागत, स्वागत, हे आर्यपुत्र !
वंदन  तेरा अभिनन्दन  तेरा.
कैसे  करूँ  मैं  तेरी  आरती?
रह गयी कहाँ पूजा की थाली?

पधारो ! पधारो ! हे भगवान् !
सबरी  की कुटिया के  श्रीराम.
मैंने त्याग दिया है वैभव सारा,
हुआ जब से ओझल राम हमारा.

 

रख  ली  लाज  तूने  अब  मेरी,
यह करुणा-अनुग्रह-दया है तेरी. हे नाथ ! तुच्छ  मैं  नारी  हूँ,
इस  गौरव  हेतु  आभारी  हूँ.


हे धरा के यश! मेरी बात सुनो,
नारी तुच्छ नहीं,  बड़ी  भारी  है.
तप में, त्याग में, शील-संयम में,
सेवा - कर्म - साधना - भक्ति में,
यह नर जब तक रहेगा धरा पर 
होगा वह नारी जाति का आभारी.

पुरुष तो है बस मानसिक ज्ञान,
यह नारी ही उसकी मनः शक्ति.
पहचान ज्ञान की इसी शक्ति से
जीवन भी उसकी इसी शक्ति से.
मात्रि  रूप  में  सर्जक  है  वह.
भार्या  रूप  में  मन  की  आशा.
बहन  रूप  में  स्नेह  वही  है,
पुत्री  रूप  वह  है - अभिलाषा.


जब  भिक्षु  रूप  में  आये  हो,
मुझको भी तुझे कुछ देना होगा.
करती  हूँ  अर्पित  राहुल  को,
शोणित के लाल को  झोली  में.
इसे  करो  तुम  अंगीकार,
हे नाथ !  हमारा  तुच्छ दान.
तेरी चरण धूलि को पा करके,
मैं  हुयी  धन्य  सब पा करके.


रोकूंगी नहीं तुम्हे पथ से,
निज हाथों तिलक लगाउंगी.
तेरा  पथ  है - 'विश्व कल्याण'.
नहीं चाहत मेरी निज कल्याण.
मैं   पंथ   निहारे   बैठी  हूँ,
हूँ गर्विता, भाग्य पर एंठी  हूँ.
तूने  लौटाया  मुझे  मेरा  मान,
एक क्षत्राणी का किया सम्मान.


अब नहीं बचा कोई उपालंभ,
देखते ही दूर सब क्रोध-दम्भ.
हुई  आज  फिर  सद्गति मेरी,
मुक्ति की हुई अभिलाषा  पूरी.
अब कह लो चाहे 'निर्वाण' इसे,
या कह लो निज मन का अर्पण.

जो  भी  है  अब,  सब  है  तेरा,
तुझको  अब  सर्वस्व  समर्पण.
कृत कृत्य हुयी, कोई  रंज  नहीं,
निर्वाण के  संग, कोई जंग  नहीं.
मेरा उद्देश्य भी अब जन कल्याण,
अनुगामिनी  तेरी, हे कृपानिधान !







यह  है एक नारी का  सम्मान,
ज्यों शबरी और द्रौपदी का मान.

तुम्हे  पूजती  दुनिया  सारी,
कहाँ  तुच्छ  मैं  गृहिणी नारी.
मैंने  आज सब  खोया  पाया,
तूने सर्वस्व मुझे आज लौटाया.

18 comments:

  1. पुरुष तो है बस मानसिक ज्ञान,
    यह नारी ही उसकी मनः शक्ति.
    पहचान ज्ञान की इसी शक्ति से
    जीवन भी उसकी इसी शक्ति से.

    बहुत बढ़िया |
    बधाई ||
    http://dineshkidillagi.blogspot.com/

    ReplyDelete
  2. सुन्दर रचना के लिए बधाई स्वीकार करें.

    ReplyDelete
  3. बहुत प्रभावपूर्ण अभिव्यक्ति..आभार

    ReplyDelete
  4. जो भी है अब, सब है तेरा,
    तुझको अब सर्वस्व समर्पण.
    कृत कृत्य हुयी, कोई रंज नहीं,
    निर्वाण के संग, कोई जंग नहीं.
    मेरा उद्देश्य भी अब जन कल्याण,
    अनुगामिनी तेरी, हे कृपानिधान !

    बहुत सुन्दर प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति, आभार

    ReplyDelete
  6. खुबसूरत विचारणीय सृजन सिध्हस्त करों से , इतना की पिरोते जाएँ लड़ियों में ,सम्मान के साथ ,मुबारकबाद ....डॉ साहब .

    ReplyDelete
  7. http://urvija.parikalpnaa.com/2011/10/blog-post_15.html

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर भावपूर्ण उदगार ! य्शोधरा के महान व्यक्तित्व को उजागर करती सुंदर कृति!

    ReplyDelete
  9. सुंदर अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  10. इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete
  11. प्रभावशाली अभिवयक्ति....

    ReplyDelete
  12. तुम्हे पूजती दुनिया सारी,
    कहाँ तुच्छ मैं गृहिणी नारी.
    मैंने आज सब खोया पाया,
    तूने सर्वस्व मुझे आज लौटाया.

    बहुत ही सुंदर प्रस्तुति । मेरे पोस्ट पर आकर मेरा भी मनोबल बढ़ाएं .धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति ..

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर ...........
    पवित्र भावोंकी हृदयस्पर्शी रचना

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर प्रस्तुति..... .

    ReplyDelete
  16. सभी विचारकों, पाठकों, सुधी समीक्षकों का बहुत - बहुत आभार. टिप्पणियों का स्वागत. साथ ही ब्लॉग पर विलम्ब से पहुचने के लिए क्षमा भी.

    ReplyDelete