Saturday, February 19, 2011

सखी मधुमास आयो री


सखी! मधुमास आयो री
झूम रही गेहूं की बाली,
पीली सरसों झूम रही है.
अरहर अलसी चना मटर
सब खोले बाहें लिपट रही है.

धरती ने ओढ़ी धानी चूनर
पवन को सूझी नयी शरारत
कभी तेज कभी मंद-मंद बह
देखो विजन डुलाय रहा है.
यह कौन कर रहा देखो इशारा ?
संकेत पर किसके प्यारा घूंघट 
यह धरती का अब उठा रहा है.

खेतखलिहान में जुटा कृषक भी
गीत - बासंती गुनगुना रहा है
होली गीत का प्यारा सा मुखड़ा 
हे सखी! किसे ये सुना रहा है ?
देख सखी! मै सच कहती हूँ..,
मधुमास का ऋतु आ गया है.

15 comments:

  1. बहुत सुन्दर मधुमास के रंग बिखेरती सुन्दर रचना। बधाई।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर रचना। बधाई।

    ReplyDelete
  3. मधुमास की सुंदर छटा लाई आपकी रचना..... बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  4. वाह! मधुमास की सुन्दर रचना अपने रंग बिखेर रही है।

    ReplyDelete
  5. बसंत ऋतु पर एक सुन्दर रचना ....

    ReplyDelete
  6. समयानुकूल रचना है.

    ReplyDelete
  7. सुंदर। अति सुंदर!!

    ReplyDelete
  8. सुंदर बसंत गीत ,बधाई

    ReplyDelete
  9. Thanks, very-very thanks to all participants for your kind visit and creative comments.

    ReplyDelete
  10. देख सखी! मै सच कहती हूँ,
    मधुमास का ऋतु आ गया है।

    सचमुच, मधुमास आ गया है।
    वसंत का जीवंत चित्रण किया है आपने।
    सुंदर रचना, बधाई।

    ReplyDelete
  11. पीली सरसों झूम रही है.
    अरहर अलसी चना मटर
    सब खोले बाहें लिपट रही है.

    शब्दों में भी पीली सरसों खिल रही है ... रचना पढ़ कर ऐसा लगता है जैसे मधुमास अपने पास ही उतर आया हो ... लाजवाब .

    ReplyDelete
  12. hariyali ke sath holi ki yaad satane legi....bahut sundar madhumas.

    ReplyDelete
  13. मधुमास की बहुत सुन्दर वासंती रचना..आभार

    ReplyDelete
  14. Thanks to all respected participants for visit and more valuable comments.

    ReplyDelete