Wednesday, November 3, 2010

तन दीपक मेरा मन दीपक




तन दीपक मेरा मन है दीपक, दीपक मेरा सपना है;
जग को कहीं करे आलोकित उससे रिश्ता अपना है.
घर को करे प्रकाशित दीपक, कुल का मान बढाता दीपक,
उषा का साथ निभाता दीपक, निशा को दूर भगाता दीपक .
आता है नित संध्या के संग, क्या-क्या रूप दिखाता दीपक,
घर में किरण को लाये दीपक, ज्योत्सना गले लगाये दीपक.
उज्ज्वलता को बाहर बाहर , काजल को ह्रदय समाये दीपक,
कोमल कांति, तेल शान्ति संग, दीपशिखा को भाता दीपक.

गौर वर्ण का प्यारा दीपक, कजरी मन को भाये दीपक,
बैठी काजल कंचन के ऊपर, स्नेह डोर से बंधा है दीपक.
चौकठ पर पहरेदार है दीपक, प्रवेश द्वार लहराए दीपक,
आंधी और तूफ़ान में देखो, साहस खूब दिखाए दीपक.
मिटटी का दीपक,पीतल का दीपक रोब जमाये चांदी दीपक,
सारे दीपक पड़ जाये फीके, जब कनकलता संग आये दीपक.
काया कांति हो जाए सो गुनी, जब अंतर लाओ जलाए दीपक,
काया की भी रहे न छाया , जब शव को आग लगाये दीपक.
देखो ध्यान से यदि दीपक को आशा की सदा जलाए दीपक.

कबीर के घर तेज है दीपक, वे लिए लुकाठी हाथ है दीपक.
तुलसी के घर भक्ति है दीपक, सूर का है वात्सल्य यह दीपक.
मीरा के पाव घुघरू है दीपक, नाची बन गिरिघर संग दीपक.
देखो जिसका घर उजियारा, गीता वहां कुरान है दीपक.
तुम भी बन जाओ मेरे भैया! , मेरे विश्व वसुधा का दीपक,
रखो, संभालो अपना दीपक, कर्त्तव्य का दूसरा नाम है दीपक.
हुई भंग यदि विधि व्यवस्था, घर को भी आग लगाता दीपक.
नहीं चाहिए मुझे निर्वाण, यदि अर्थ है इसका - 'बुझ जाना'.
मुझको मेरा दीपक है प्यारा, प्यारा उसका जलते रहना.
तन दीपक, मेरा मन है दीपक, दीपक मेरा सपना है,
जग को कहीं भी करे आलोकित, उससे रिश्ता अपना है.

12 comments:

  1. आदरणीय शास्त्री जी .... बहुत ही सुंदर रचना ... हर पंक्ति में दीपक की अलग व्याख्या ... उम्दा प्रस्तुति ... आभार

    दीपावली की आपको और आपके परिवार को हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  2. भूल सुधार
    कृपया आशा को सदा जलाए दीपक के स्थान पर पढ़े -

    "आशा है सदा जलाये दीपक".

    Xitija ji

    Thanks for your kind visit and useful comments comments please.

    ReplyDelete
  3. बेहद उम्दा और आशा का संचार करती रचना के लिये हार्दिक बधाई।
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  4. उत्कृष्ट भावो से सजी उत्तम रचना . प्रकाश पर्व की अग्रिम शुभकामनाये .
    http://ashishkriti.blogspot.com/

    ReplyDelete
  5. कविता के अनुरूप चित्र भी सुंदर!! बहुत अच्छी प्रस्तुति। दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई! राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है!
    राजभाषा हिन्दी पर – कविता में बिम्ब!

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छी प्रस्तुति
    आपको और आपके परिवार को दीपावली की बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाएं ! !

    ReplyDelete
  7. दीपक के विभिन्न रूपों से परिचय कराने के लिए आभार..बहुत सुन्दर..दीपावली की हार्दिक शुभ कामनाएं

    ReplyDelete
  8. इसी तरह आप से बात करूंगा
    मुलाक़ात आप से जरूर करूंगा

    आप
    मेरे परिवार के सदस्य
    लगते हैं
    अब लगता नहीं कभी
    मिले नहीं है
    आपने भरपूर स्नेह और
    सम्मान दिया
    हृदय को मेरे झकझोर दिया
    दीपावली को यादगार बना दिया
    लेखन वर्ष की पहली दीवाली को
    बिना दीयों के रोशन कर दिया
    बिना पटाखों के दिल में
    धमाका कर दिया
    ऐसी दीपावली सब की हो
    घर परिवार में अमन हो
    निरंतर दुआ यही करूंगा
    अब वर्ष दर वर्ष जरिये कलम
    मुलाक़ात करूंगा
    इसी तरह आप से
    बात करूंगा
    मुलाक़ात आप से
    जरूर करूंगा
    01-11-2010

    ReplyDelete
  9. डा .सा :,
    इस व्यंग्यात्मक आलेख द्वारा आपने आज के मानव की असलियत सामने रख दी .
    आपने मेरी दो पोस्ट्स पर जो अपने अमूल्य विचार दिए ,उनके लिए आभारी हूँ .ओजोन पर आपके आर्टिकिल का इंतज़ार है .

    ReplyDelete