Saturday, May 29, 2010

स्वाभिमान की कीमत क्या होती है?

स्वाभिमान की कीमत क्या होती है?
पूछो - किसी जवानी से.
और जान की कीमत क्या होती है?
पूछो - उस बलिदानी से.

अपमान की कीमत क्या होती है?
पूछो -किसी कहानी से.
अरे! आन की कीमत क्या होती है?
पूछो - झाँसी की रानी से.

त्याग की कीमत क्या होती है?
पूछो - किसी 'दधीचि' से.
छल की कीमत क्या होती है?
पूछो - किसी 'मारीच' से.

नारीत्व की कीमत होती क्या?
कुछ जानते मेरे भैया?
त्रिदेवों को शिशु बना दिया,
था नाम उसका,-'अनुसुइया'.

सत्य की कीमत क्या होती है?
पूछो - 'राजा हरिश्चंद्र' से.
कर्तव्य की कीमत क्या होती है?
पूछो - 'राजा रामचंद्र' से.

भोग की कीमत क्या होती है?
पूछो - 'राजा नहुष' से.
डोरी की कीमत क्या होती है?
पूछो - किसी धनुष से.

अनुराग की कीमत क्या होती है?
यह पूछो - तुम मीरा से.
ताज की कीमत क्या होती है?
यह पूछो - तुम हीरा से.

राज्य की कीमत क्या होती है?
तू पूछ - भरत सम ज्ञानी से.
युद्ध की कीमत क्या होती है?
तू पूछ - दशानन अभिमानी से.

बम की विभीषिका क्या होती है?
तू पूछ - किसी जापानी से.
वात्सल्य की कीमत क्या होती है?
तू पूछ - किसी भी नानी से.

अविवेक की कीमत क्या होती है?
तू पूछ - इसे 'ध्रितराष्ट्र' से.
आतंक की मार है होती क्या?
तू पूछ - इसे - महाराष्ट्र से.

मन्त्र की शक्ति क्या होती है?
पूछो - तुम 'गायत्री' से.
विवेक की शक्ति क्या होती है?
इसे पूछो - तुम 'सावित्री' से.

ज्ञान की कीमत क्या होती है?
तू पूछ - इसे 'नचिकेता' से.
शिशु की कीमत क्या होती है?
पूछो - तुम नई प्रसूता से.

बेटे की कीमत क्या होती है?
पूछो - तू अपनी माता से.
बेटी की कीमत क्या होती है?
पूछो - अपनी अभिलाषा से.

पश्चाताप की कीमत क्या होती है?
पूछो - किसी 'सुकन्या' से.
वर की कीमत क्या होती है?
पूछो - दुल्हन बनी किसी कन्या से.

तेल की कीमत क्या होती है?
पूछो - किसी चिराग से.
टिप्पणी की कीमत क्या होती है?
पूछो - किसी 'ब्लॉग' से.

5 comments:

  1. जिसका मूल्य होता है,उसकी कोई क़ीमत नहीं होती। जिसकी क़ीमत लगाई जा सके,उसका कोई मूल्य नहीं होता।

    ReplyDelete
  2. Sir,
    यहाँ 'कीमत' शब्द का निहितार्थ 'उच्चतर मानवीय मूल्यों' से है, और इस विन्दु पर दोनों समानार्थी हैं. यहाँ प्रस्तुत उदहारण केवल उस मूल्य के प्रतीक मात्र हैं. अंतिम सोपान नहीं......प्रेरक हैं, संतुष्टि और संतृप्ति नहीं , फिर भी विन्दु उपयोगी और विचारणीय ...... साधुवाद....

    ReplyDelete
  3. बहुत सार्थक रचना....जिसको जो कुछ आसानी से नहीं मिलता वही उसकी कीमत जानता है...सटीक


    आपकी ( समय क्या है )कविता चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर मंगलवार १.०६.२०१० के लिए ली गयी है ..
    http://charchamanch.blogspot.com/


    plz word verificaton tippaniyon se hata den....tippani dene men sarlta ho jayegi

    ReplyDelete
  4. मेरी पोस्ट "चर्चा मंच" में सम्मिलित करने के लिए साधुवाद. आपके सुझाव पर word verification हटा दिया गया है.

    ReplyDelete
  5. antim laine saara saar.. ham sabke liye hai na.....:)

    ReplyDelete